हिमाचल के मनाली (Manali) में कहां करें मुफ्त की घुमक्कड़ी?

Manali Travel Blog | Manali Destinations | Manali Travel Spots | Manali Tourist Destination | हमने आपको अपनीसाइट ट्रेवल जुनून में कई अलग-अलग जगहों के बारे में बताया। कई आध्यात्मिक तो कईघूमने वाली जगहों पर घुमाया। हर बार की तरह इस बार भी हम आपको एक नई जगह घूमाने केलिए आए हैं और वो नई जगह है मनाली। बर्फ की चादरों से ढका मनाली जितना दिखने मेंखूबसूरत है  उतना ही वहां की सड़के भी।चलिए हम आपको घूमाते हैं मनाली की हर एक सड़कों पर जहां आप मुफ्त की घुमक्कड़ी करसकते हैं।

हिमाचल प्रदेश घूमने फिरने के लिए सबसे अच्छी जगह मानी जाती है। यहां आपको विदेशी पर्यटक भी मिलेंगे जो  मनाली की खूबसूरत वादियों में घुमने आते हैं। हम आपको बताने जा रहे हैं मनाली में कहां-कहां घूमां जाए-

सुल्तानपुर पैलेस

सुल्तानपुर पैलेस को पूर्वी रूपी पैलेस के रूप में बुलाया गया था और यह पुराने के अवशेषों पर बनाया गया था जो भूकंप में क्षतिग्रस्त हो गया था। महल विभिन्न दीवार चित्रों और पहाड़ी शैली की वास्तुकला और औपनिवेशिक शैली का अद्भुत मिश्रण है। महल कुल्लू घाटी के पूर्व शासकों का निवास है।

कुल्लू घाटी

मनाली जाएं तो कुल्लू घाटी घूमने के लिए जरूर जाए। कुल्लू घाटी को पहले कुलंतापीठ के नाम से जाना जाता था जिसका अर्थ है अंतिम स्थान।

अर्जुन गुफा

अर्जुन गुफा मनाली में काफी फेमस जगह है। ये गुफा पिरनी गांव में स्थित है। कहा जाता है कि महाभारत काल में अर्जुन ने यहां ठहर करके पशुपति अस्त्र हासिल किया था।

नेहरू कुंड

नेहरू कुंड  मनाली से महज 5 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां आपको सुंदर प्राकृतिक झरना भी देखने को मिलेगा।

सोलंग घाटी

सोलंग घाटी मनाली से 13 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां बर्फ व ग्लेशियरों के अद्भुत नजारे देखने को मिलते हैं। स्कीइंग के लिए मशहूर यहां की ढलानों पर सैलानी इस खेल का खूब आनन्द लेते हैं।

रोहतांग पास

रोहतांग दर्रा घाटी के कई सुंदर नजारें और छिपे हुए झरने के वजह से काफी फेमस है। यह पास रोहतांग दर्रा के दक्षिणी और उत्तरी किनारे स्थित बास और चिनाब नदियों के साथ एक सुरम्य स्थान पर स्थित है।

हदीमबा मंदिर

हदीमबा मंदिर राक्षस हिदिम्बा को सर्मिपत है। मंदिर की संरचना एक विशिष्ट वास्तुशिल्प शैली में बनाई गई है जो बौद्ध मठों में कार्यरत एक व्यक्ति के साथ कुछ हद तक भारतीय वास्तुकला को पार करती है।

वाशिस्ट हॉट वॉटरस्प्रिंग्स

यह ब्यास नदी पर बना हुआ है जोकि मनाली से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर है। आपको बता दें कि वाशीस्ट का गांव अपने सल्फ्यूरस हॉट वाटर स्प्रिंग्स के लिए प्रसिद्ध है। यहां काफी मात्रा में भीड़ उमड़ती है। स्प्रिंग्स का उपयोग तुर्की के शैलियों वाले घरों में भी किया जा सकता है, जो यहां उपलब्ध हैं। गांव अपने पत्थर के मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है जो एक स्थानीय संत वशिष्ठ को समर्पित हैं।

कैसे पहुंचे मनाली तक-

वायु मार्ग- रेल से मनाली पहुंचना इतना आसान नहीं है। सबसे नज़दीकी बड़ी लाइनों के मुख्य रेलवे स्टेशन उना (250 कि॰मी॰ (820,000 फीट)) चंडीगढ़ (315 कि॰मी॰ (1,033,000 फीट)), पठानकोट (325 कि॰मी॰ (1,066,000 फीट)) और कालका (310 कि॰मी॰ (1,020,000 फीट)) में हैं। नज़दीकी छोटी लाइन का मुख्य रेलवे स्टेशन जोगिंदर नगर (135 किलोमीटर (443,000 फीट)) में हैं।

वायु मार्ग

सबसे नज़दीकी वायु सेवाएं, कुल्लू-मनाली विमानक्षेत्र, भुंतर में उपलब्ध हैं, जो मनाली से करीब 50 कि॰मी॰ (160,000 फीट) दूर है। वर्तमान में, किंगफिशर रेड दिल्ली से प्रतिदिन निरंतर सेवाएं संचालित करती है, एयर इंडिया सप्ताह में दो बार निरंतर सेवा प्रदान करती है और MDLR एयरलाइन्स हफ्ते में छ: बार दिल्ली के लिए सेवाएं प्रदान करती हैं।

रेलवे मार्ग

मनाली तक पहुंचने के लिए मुख्य विकल्प राउद द्वारा है। चंडीगढ़ तक पहुंचने के बादया अंबाला टैक्सी को किराए पर लिया जा सकता है। चंडीगढ़ से मनाली बसें सेक्टर 43बस स्टैंड से भी उपलब्ध हैं। चंडीगढ़ से मनाली सड़क की सुविधा लगभग 340 किलोमीटरहै और चंडीगढ़ से मनाली यात्रा की अवधि लगभग 8-10 घंटे है

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: