ताज महल, आगराः क्या करना है, क्या नहीं करना है, 1 मिनट में जानें

आगरा का नाम लेते ही जहन में ताज महल की तस्वीर बन जाती है. ताज की नगरी आगरा में यूं तो ताज के अलावा कई खूबसूरत और ऐतिहासिक महत्व वाली इमारतें हैं लेकिन दुनिया भर में इसकी पहचान ताज से ही है. यहां आने वाला हर टूरिस्ट सबसे पहले ताज को निहार लेने की ही ख्वाहिश रखता है. आगरा में ताज महल के अतिरिक्त आगरा का किला, अकबर का मकबरा, जामा मस्जिद, ताज म्युजियम, पंच महल जहांगीर पैलेस भी हैं. ताज महल आगरा शहर के केंद्र से 3 किलोमीटर की दूरी पर है. यह दुनिया के 7 अजूबों में से एक है और भारत में यह सबसे आकर्षक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में चर्चित है. प्रेम के प्रतीक ताज को मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी रानी मुमताज की याद में बनाया था. रवींद्रनाथ टैगोर ने ताज को अनंतकाल के गाल पर आंसू की बूंद के रूप में परिभाषित किया था. हर साल लाखों टूरिस्ट ताज के लिए आगरा में खिंचे चले आते हैं.

आगरा में क्या करें, क्या न करें

अब तक की अपनी यात्राओं में मैंने आगरा को ही मदद के लिए लिहाज से थोड़ा अविश्वसनीय पाया है. आप आगरा घूमते वक्त क्या करें या क्या न करें इसके लिए सबसे जरूरी बात है कि आप किस तरह से आगरा जा रहे हैं. अगर आप अपने वाहन से आगरा जा रहा हैं या निजी वाहन बुक करके तब आपको कुछ खास बातों को ध्यान में रखना पड़ेगा जिससे आपको चपत तो लगे नहीं, साथ में आप जल्दी से अपनी यात्रा को पूरा भी कर सकें.


अगर अपनी गाड़ी से जा रहे हैं: अपने वाहन से अगर आप आगरा जा रहे हैं और वहां ठहरने की भी प्लानिंग कर रहे हैं तो एक बार पुनः विचार कर लें. आप अगर अपनी गाड़ी से हैं तो काम के सामान गाड़ी में रखकर पार्किंग के सुचारू इस्तेमाल से आप एक दिन में ही अपनी यात्रा को पूरा कर सकते हैं. अपनी गाड़ी से यात्रा के दौरान आप एक बात जरूर ध्यान रखें जो आपको हर किसी तरीके की यात्रा में याद रखनी होगी, वो ये कि किसी भी अनजान से रास्ता न पूछें. आगरा में जगह जगह आपको पीसीआर ये पुलिस पिकेट दिख जाएंगी, अच्छा रहेगा अगर आप इन्हीं पुलिसवालों से रास्ता पूछें. वैसे गूगल मैप तो बेस्ट ऑप्शन है ही.

अपनी गाड़ी से यात्रा करते वक्त अक्सर लोग जगह जगह रुककर फोटो खिंचवाने का शौक पूरा करने लग जाते हैं. आप जहां कहीं से भी आगरा पहुंच रहे हों, यात्रा को तय वक्त पर पूरा कर लेना ही उत्तम होता है और इसके लिए सही मैनेजमेंट होना जरूरी है. नैन सिंह रावत, राहुल सांकृत्यायन, ह्वेनसांग, फाह्यान, इत्सिंग जैसे घुमक्कड़ों ने इसी नियम का पालन करते हुए अपने कार्यों को पूरा कर इतिहास रच दिया था. आप भी तय वक्त पर यात्रा पूरी करें.

आगरा का टूर पैकेज लिया है तोः आगरा के लिए टूर पैकेज दो तरह के होते हैं. अगर आप आसपास के इलाकों जैसे दिल्ली से जा रहे हैं तो आपको बस के जरिए एक दिन में ही यात्रा का ऑफर मिलेगा, इसमें अधिकतर खाना-पीना और यात्रा टिकट शामिल नहीं रहते हैं. इस तरह की बुकिंग तभी फायदेमंद रहेगी जब आप खाने-पीने या फिर यात्रा टिकट को इन्क्लूड करने वाला पैकेज लें. ज्यादातर ट्रैवल एजेंसियां बस की टिकट के पैसे तो ले लेती हैं लेकिन आगरा में जाकर वह आपको एक ऐसे नेक्सस में छोड़ देती हैं जहां से वापस आकर आप खुद को ठगा हुआ ही महसूस करेंगे. आपको गाइड की सुविधा के नाम पर अकेला छोड़ दिया जा सकता है. टिकट के पैसे के नाम पर ज्यादा कीमत ली जा सकती है और हो सकता है बदतमीजी का भी सामना आपको करना पड़े.

आप अगर बस से जाने की प्लानिंग कर रहे हैं तो एक एक चीज की जानकारी जुटा लें. साथ ही साथ, अगर आप वहां ठहरने वाला पैकेज ले रहे हैं, तो भी उसमें एक एक चीज को क्लियर जरूर कर लें. उसमें ब्रेकफास्ट और डिनर शामिल होना चाहिए. लंच के लिए आप यूं ही किसी जगह न जाएं. पहले रेस्टोरेंट की ऑनलाइन रेटिंग जरूर चेक कर लें.

ऑटो-बस से लोकल सफरः आगरा में टूरिस्टों से बड़े पैमाने पर धोखा ऑटोवाले या रिक्शेवाले ही करते हैं. अगर आप आगरा में ताज महल से 5 किलोमीटर दूर हैं और आपको समझ नहीं आ रहा कि करना क्या है, तो ऐसी स्थिति में सबसे पहले पुलिसकर्मियों से संवाद करें. उनसे जानकारी जुटा लेने के बाद ही तय करें कि आप सफर को किस तरह पूरा करेंगे. अगर आपके पास स्मार्टफोन है तो खुद भी आप दूरी को जरूर देख लें. इसके बाद ऑटो की सेवा लें. रेट फिक्स हो जाने के बाद ही मामला खत्म हुआ मत समझ लें. यहां हो सकता है कि ऑटोवाले आपको तय स्थान से 2 किलोमीटर पहले ही उतार दें. हमारे एक मित्र के साथ ऐसी घटना हो भी चुकी है. ऑटोवाला आपको जहां भी उतारे, पहले उससे तो पूछे ही लेकिन रुपये देने से पहले आसपास खड़े लोगों से भी जानकारी ले लें.

गाइड सर्विसः किसी भी ऐतिहासिक इमारत का तब तक कोई महत्व नहीं है जब तक आप उसके बारे में एक एक चीज जान न लें. जानकारी और ऐतिहासिक महत्व को जाने बिना वह आपके लिए सिर्फ और सिर्फ पत्थर का ढांचा ही है. मसलन आगरा के किले में 4 बाग क्यों हैं, शाहजहां को कहां कैद रखा गया था, रानियों के लिए बना महल, ये सभी चीजें आपको जरूर जाननी चाहिए. यात्रा का आनंद भी इसी में है. हर ऐतिहासिक महत्व की इमारत और हर टूरिस्ट स्थल के बाहर आपको गाइड की भीड़ दिखाई देगी. यहां भी आपको सोच समझकर फैसला करना होगा. आगरा के किले के लिए आप 200 रुपये में गाइड को फिक्स कर सकते हैं. वहीं, ताज महल में भारतीय टूरिस्ट गाइड सर्विस अगर चाहते हैं तो 250 रुपये इसके लिए पर्याप्त हैं. इससे अधिक कीमत किसी गाइड को न दें.

News Reporter

2 thoughts on “ताज महल, आगराः क्या करना है, क्या नहीं करना है, 1 मिनट में जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: