लखनऊ की ये जगह है बेहद खास, आप भी कीजिए विजिट एक बार

इस बार करिए लखनऊ के प्रसिद्ध इमामबाड़े में शिरकत

अगर आप भी लखनऊ में घूमने का प्लान बना रहे हैं और गूगल की मदद से जानना चाह रहे हैं कि लखनऊ में कहां-कहां घूमा जाएं, तो हम आपकी मुश्किल को आसान करने वाले हैं। दरअसल आज मैं आपको घूमाने वाली हूं नवाबों के शहर लखनऊ के सबसे प्रसिद्ध स्थल पर जिसका नाम है इमामबाड़ा। इमामबाड़ा को देखने और घूमने के लिए बहुत दूर-दूर से लोग आते हैं। आप अक्सर इस जगह पर फॉरेनर टूरिस्ट को पाएंगे। तो चलिए इमामबाड़ा को घूमने से पहले जल्दी से  जान लेते हैं इसकी हिस्ट्री के बारे में कि किसने और कब इस इमामबाड़े का निर्माण किया और क्यों….

इमामबाड़ा का इतिहास

इमामबाड़े का निर्माण नवाब आसफउद्दौला ने 1784 में कराया था और इसके संकल्पनाकार ‘किफायतउल्‍ला’ थे। बड़ा इमामबाड़ा एक रोचक भवन है। यह न तो मस्जिद है और न ही मक़बरा, लेकिन इस विशाल भवन में कई मनोरंजक तत्व अंदर निर्मित हैं।

अंदर क्या है

आपको दीवारों और इमारतों पर इस्लामी प्रभाव देखने को मिलेगा। साथ ही साथ आपको बता दें कि इस इमामबाड़े में एक असफी मस्जिद भी है जहां गैर मुस्लिम लोगों को अंदर जाने की इजाजत नहीं है।

ऐसा कहा जाता है कि इमामबाड़े के अंदर कई अंडरग्राउंड रास्ते बनाए गए थे। इनमें से एक रास्ता गोमती नदी के तट पर खुलता है और एक फैजाबाद तक जाता है। वहीं कुछ रास्ते इलाहाबाद और दिल्ली तक भी जाते हैं। कहा यह भी जाता है कि ये सारे रास्ते अब भी मौजूद है लेकिन दुर्घटनाओं के डर की वजह से इन्हें सील कर दिया गया है जिससे कोई भी अंदर न जा सके।

इमामबाड़े के अंदर क्या-क्या है

-भूल भुलैया

-मस्जिद रिसर के आंगन में दो ऊंची मीनाकरें हैं

– बाउली

भूल भुलैया के अंदर क्या है

भूल भुलैया के अंदर जाने के लिए आपको वहां मौजूद गाइड करने की जरूरत पड़ेगी। क्योंकि अगर आप गाइड नहीं लेते हैं तो आपको बाहर आने में दिक्कत हो सकती है। बता दें कि भूल भुलैया का निर्माण नवाब ने राज्य में पड़े दुभिर्क्ष से निबटने के लिए किया था। इसके अंदर एक कुंआ भी है। इस कुऐं में बाहर से आ रहे लोगों का चेहरा साफ नजर आता है।

टिकट का खर्चा

हर एक व्यक्ति की टिकट 100 रुपये की होगी। अगर आप कपल में हैं तो आपको अंदर घूमने के लिए गाइड लेना जरूरी है क्योंकि कपल को बिना गाइड के अंदर जाने की अनुमति नहीं है। भुल-भूलैया के अंदर गाइड आपसे 100 रुपये चार्ज करेगा…

गाइड आपको क्या-क्या दिखाएगा

-भूल भुलैया में गूंजती माचिस जलाने की आवाज

-दीवारों से आ रही आवाजें

-छत पर मौजूद अलग-अलग जगहों के रास्ते

कैसे पहुंचे इमामबाड़े तक

अगर आप हवाई अड्डे या फिर चारबाग स्टेशन से आ रहे हैं तो आपको आसानी से पब्लिक ट्रांसपोर्ट मिल जाएगा इमामबाड़ा जाने के लिए….

अगर आप बादशाहनगर स्टेशन से आ रहे हैं तो आपको पहले मेडिकल कॉलेज पहुंचना होगा । जहां से आपको सीधे इमामबाड़ा जाने के लिए ऑटो मिल जाएगी..

 

 

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: